हर विनाशकारी चीज तेजी से ही फैलती है

Print Friendly, PDF & Email

आप मेरे या देश के काम के हो सकते हैं, जब आपके लिए मजहबी और राजनैतिक दड़बे और झूठे मक्कार दोगले नेताओं से अधिक महत्वपूर्ण राष्ट्रहित व नागरिक हित हो जाएगा । जब आप अपने अपने दड़बों से बाहर निकलकर देश की विराटता को देखने और समझने योग्य हो जाओगे Continue Reading →

228 total views, 3 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

इन्साफ ईश्वर करेगा या इंसान करेगा ?

Print Friendly, PDF & Email

आप सभी के आसमानी, ईश्वरीय और धार्मिक ग्रन्थ व संविधान यही कहते हैं कि खुदा/ईश्वर स्वयं न्याय करता है | लेकिन वह न्याय करेगा कयामत के दिन | तब तक तो वह अन्यायी, अत्यचारी का विरोध करने तक की हिम्मत नहीं रखता | ऐसे में स्वाभाविक है कि न्याय के लिए किसी योग्य व्यक्ति को चुना जाना चाहिए Continue Reading →

384 total views, 3 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

इंसान को इंसान ही रहने दें

Print Friendly, PDF & Email

आइन्स्टीन, मार्क ट्वेन, स्टीव जॉब्स, ओशो का कमरा और टेबल बहुत ही अस्तव्यस्त रहता था और यहाँ तक कि जुकरबर्ग का टेबल भी | लेकिन वे बाहर से चाहे कितने ही अस्तव्यस्त थे उन्होंने बहुत ही व्यवस्थित अविष्कार व दिशा निर्देश दिए | Continue Reading →

311 total views, 4 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

निराकार की पूजा सही या साकार की ?

Print Friendly, PDF & Email

निराकार उपासक खुद को बहुत ही एडवांस समझते हैं, बहुत ही ऊपर दर्जे वाली प्रजाति समझते हैं | लेकिन ऐसा क्यों समझते हैं, यह मेरी समझ में आज तक नहीं आया | मेरी तो छोड़िये, चुनमुन परदेसी को भी समझ में नहीं आया कभी | Continue Reading →

483 total views, 1 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post