धूर्त, मक्कार, पाखंडियों का एक और नया पाखंड ‘राष्ट्र रक्षा महायज्ञ’

Print Friendly, PDF & Email

जब नोटबंदी से लोग त्राहिमाम-त्राहिमाम कर रहे थे, जब पेट्रोल डीजल के दाम बेलगाम बढ़ रहे हैं, जब महँगाई बेतहाशा बढ़ रही है, तब किसी भी राज्य के राज्याधिकारी ने इन्हें रोकने के लिए कोई यज्ञ नहीं करवाया…..क्योंकि सभी जानते हैं कि यज्ञों से ये सब नहीं रोके जा सकते | Continue Reading →

379 total views, 4 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

धन्य है भारत कि रविश कुमार जैसा दुर्लभ पत्रकार आज भी पाया जाता है भारत में |

Print Friendly, PDF & Email

रविश ने हार्वर्ड में हिंदी में ही बोला जो कुछ बोला, लेकिन किसी फैशन या दिखावे के लिए नहीं | और न ही कोई देशभक्ति जताने की नौटंकी करने के लिए | बल्कि स्पष्ट रूप से स्वीकारते हुए कहा कि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती इसलिए हिंदी में बोल रहा हूँ Continue Reading →

534 total views, 4 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

माँ शब्द की गरिमा को जानो ! माँ कोई बिकाऊ चीज नहीं होती !

Print Friendly, PDF & Email

माँ शब्द केवल संबोधन नहीं है, बल्कि किसी बच्चे के लिए जीवन है, किसी युवा के लिए प्रोत्साहन है, किस वृद्ध के लिए मीठी यादें हैं | हम दुःख में हों, हताश हो जाएँ कभी तो कोई याद नहीं आता, केवल माँ ही याद आती है इसलिए माँ शब्द को इन बिकाऊ चीजो के साथ मत जोड़ें | माँ शब्दों का प्रयोग उन्ही के लिए करें जो बिकाऊ न हों Continue Reading →

572 total views, 5 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

…लेकिन हम सवा सौ करोड़ लोग मुट्ठी भर नेताओं के भरोसे बैठे हैं !!!

Print Friendly, PDF & Email

एक अकेला चंदू पूरे गाँव के लिए कुआँ खोद कर पानी निकाल सकता है, लेकिन हम सवा सौ करोड़ लोग मुट्ठी भर नेताओं के भरोसे बैठे हैं !!!Posted by विशुद्ध चैतन्य on Tuesday, April 29, 2014 https://www.facebook.com/vishuddhablog 204 total views, 1 views today

204 total views, 1 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post