सनातन धर्म और आधुनिक इस्लाम व हिंदुत्व

Print Friendly, PDF & Email

हिन्दुओं के साथ सबसे बड़ी समस्या यह भी है कि इतने सारे शास्त्र हैं कि उन्हें पढ़ते पढ़ते उम्र गुजर जाती है और समझ में कुछ नहीं आता | इसीलिए शास्त्रों के ज्ञाता आपको खूब मिल जायेंगे लेकिन वे मात्र रट्टू तोते ही होंगे Continue Reading →

286 total views, 1 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

जीवन एक संघर्ष है कोई भीख नहीं

Print Friendly, PDF & Email

वर्तमान शिक्षा पद्धति में गुरु का कोई स्थान नहीं है | गुरु की जगह टीचर और ट्यूटर आस्तिव में आ गये हैं बिलकुल वैसे ही जैसे ऋषियों की जगह साधू-समाज के ट्रेंड साधू-संत और पंडित-पुरोहित आ गये | Continue Reading →

532 total views, 3 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

दान, सेवा, सहायता व धार्मिकता का ढोंग और विकास की अंधी दौड़

Print Friendly, PDF & Email

आज हर पत्रकार भयभीत है क्योकि वह गुलाम हो चुका है और गुलाम को सच कहने का अधिकार नहीं होता | आज हर नौकरीपेशा अपना मुँह बंद किये अपने बीवी बच्चे पाल रहा है क्योंकि उसे अधिकार नहीं है सच कहने का | यदि उसने सच कहा तो उसकी नौकरी चली जायेगी और फूटपाथ पर पहुँच जाएगा वह सपरिवार | Continue Reading →

450 total views, 3 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

तमाशा पकौड़ों का

Print Friendly, PDF & Email

मैंने साउथ दिल्ली के एक चाट पकोड़े वाले से पूछा था कि वह दिन में कितना कम लेता है, तो उसने कहा था कि लगभग दस हज़ार रूपये रोजाना | उस समय मैं पन्द्रह हज़ार रूपये महीने पर काम करता था किसी प्रोडक्शन हाउस में | Continue Reading →

351 total views, 5 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post