महान जुमलेबाज सम्राट की उदारता

Print Friendly, PDF & Email

उनका दुःख सुनकर वहाँ उपस्थित सभी दरबारियों के आँखों से चुनावी आँसू (चुनावी मौसम में नेताओं के आँखों से बहने वाले राजनैतिक आंसू) बहने लगे | राजा का मन भी द्रवित हो गया और उन्होंने उसी समय निश्चय कर लिया कि इनका उद्धार करना है | Continue Reading →

374 total views, 3 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post