महान जुमलेबाज सम्राट की उदारता

Print Friendly, PDF & Email

उनका दुःख सुनकर वहाँ उपस्थित सभी दरबारियों के आँखों से चुनावी आँसू (चुनावी मौसम में नेताओं के आँखों से बहने वाले राजनैतिक आंसू) बहने लगे | राजा का मन भी द्रवित हो गया और उन्होंने उसी समय निश्चय कर लिया कि इनका उद्धार करना है | Continue Reading →

373 total views, 2 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

भय के कारण कितनी देर सम्‍हलकर चलोगे ?

Print Friendly, PDF & Email

जब परेशानी में पड़ते हैं तो ईश्वर विशेष रूप से याद आने लगते हैं. गरीबों के प्रति दया-करूणा जाग जाती है. विनीत हो जाते हैं पर वह सब बनावटी ही होता है. समय फिरते ही नजरें फिर जाती हैं. Continue Reading →

282 total views, 4 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

नास्तिक चुनमुन परदेसी

Print Friendly, PDF & Email

फिर वह कह रहा है कि पुलिस की सुरक्षा भी उसे नहीं मिली तो ऐसा तो अपने ही देश में हो सकता है..विदेश…अरे बाप रे..कितना डरवाना होता है विदेशयात्रा….!!! (चुनमुन अपने विदेश यात्रा के दिन याद कर पसीना पसीना हो गया) Continue Reading →

404 total views, 4 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post

आप चाहते क्या हैं वह आपको पता होना चाहिए

Print Friendly, PDF & Email

जो व्यक्ति यह कहता है कि वह सभी के साथ मिलजुलकर रहता है तो तय है वह खुश होगा क्योंकि उसका उद्देश्य समाज के दकियानूसी विचारों को प्रभावित नहीं कर रहे | लेकिन यदि उसे कुछ नवीन करना है तो समाज के सभी लोग उससे खुश नहीं रह सकते | उसे विरोध सहना ही होगा | Continue Reading →

254 total views, 1 views today

[read_more id="1" more="Read more" less="Read less"]Read more hidden text[/read_more]
Share this post